16 results

  • Sort by
    ...
  • Chandrakunwar Bartwal Sampoorn Kavya Sahitya 950.00

    चन्द्रकुंवर बर्त्वाल सम्पूर्ण काव्य साहित्य हिमवन्त के कवि चन्द्रकुंवर बर्त्वाल की सम्पूर्ण उपलब्ध काव्य कृतियों का संकलन है। इस वृहद काव्य संग्रह में चन्द्रकुंवर बर्त्वाल की कुल 8 पुस्तकें और उपलब्ध अन्य मुक्ताएं प्रकाशित हैं। संग्रह में बर्त्वाल की हिमवंत का एक कवि, नंदिनी, गीत माधवी, जीतू, कंकड पत्थर, विराट ज्योति, पयस्विनी, काफल पाक्कू पुस्तकें संकलित हैं। चन्द्रकुंवर बर्त्वाल के विषय में ग्रंथ के संपादक डॉ. योगम्बर सिंह बर्त्वाल ने लिखा है – भविष्य में चन्द्रकुंवर बर्त्वाल रचित काव्य व साहित्य की प्रासंगिकता बढ़ेती और कवि की रचनाओं का ठीक-ठीक मूल्यांकन हो सकेगा।

    Author : Dr. Yogambar Singh Bartwal
    Language : Hindi
    Hardcover : 546 Pages
    Reading age : 15 years and up
    Country of Origin : India

  • NAINITAL A GAZETTEER नैनीताल अ गजेटियर 750.00

    NAINITAL A GAZETTEER नैनीताल अ गजेटियर

    Author : H. R. NEVILL
    Language : English
    Hardcover : 376 Pages
    Reading age : 15 years and up
    Country of Origin : India
    Best Sellers Rank : #369,868 in Books

  • ALMORA A GAZETTEER अल्मोड़ा अ गजेटियर 700.00

    This Gazetteer is useful for readers interested in the history of British Almora District.

    Author : आई.सी.एस H. G. Walton, I.C.S. एच. जी. वाल्टन
    Language : Old English
    Hardcover : 334 Pages
    Reading age : 15 years and up
    Country of Origin : India

  • -8%Limited
    Garhwal Himalay ka Gazetteer by H G Walton 550.00

    गढ़वाल हिमालय का गजेटियर वाल्टन ने एटकिंसन के ‘ हिमालयन गजेटियर ’ से करी बढाई दशक बाद लिखा है, यह अंग्रेजी में बीसवीं शाताब्दी के शुरु में छपा था, इसमें उत्तराखण्ड की कृषि, पर्यावरण, संचार व अन्य पहलुओं पर चर्चा तो है ही, खासबात यह है कि इसमें टिहरी रियासत की व्यापक चर्चा है जबकि उनके पूर्ववर्तियों ने इस क्षेत्र का कम जिक्र किया था।

  • -8%Limited
  • -11%Limited
    Siyasat e Uttarakhand 399.00

    प्रसिद्ध यायावर, शिक्षक और घुमक्कड़ प्रभात कुमार उप्रेती की पुस्तक सियासत-ए उत्तराखंड उत्तराखंड के समाज, राजनीति और आंदोलनों की देखने का नया नजरिया पेश करती है। यह पुस्तक उत्तराखंड के जल, जंगल, जमीन के मुद्दों से भिड़ते हुए हमें चिपको आंदोलन तक ले जाती है वहां से यह हमें उत्तराखंड की राजनीति के सभी पाठ एक एककर पढ़ाती चलती है। यहां पलायन की कहानी भी है और शराब विरोधी आंदोलन भी। यहां जाति के समीकरण भी आपको मिल जाएंगे। कुछ नए पुराने राजनेताओं के जीवन चित्र भी आपको इस पुस्तक में मिल जाएंगे। उत्तराखंड राज्य आंदोलन भी इस पुस्तक में मिल जाएगा। 46 अध्यायों में बंटी यह पुस्तक उत्तराखंड की राजनीति को समझने के लिए एक बेहतरीन पुस्तक है।

  • -11%Limited
  • -11%Limited
  • -11%Limited
    कुमाऊँ की लोकगाथाएँ 355.00

    कुमाऊँ की लोकगाथाएँ. उत्तराखंड के प्रतिष्ठित लोक लेखक डॉ. प्रयाग जोशी की नवीनतम पुस्तक है। पुस्तक में गाथाओं के मूल पाठ के साथ ही हिन्दी रूपान्तर भी दिया गया है। इस पुस्तक में 5 अध्याय हैं। जिनमें हुड़किया बौल, रमौल, जागर वार्ता, गारुड़ी और मालूसाही को स्थान दिया गया है। हुड़किया बौल में मैदुवासोंन, वैसभाई गैड़ा, रणजीत-दलजीत, अजुबा बफौल, रमौल में दूध कंवल, हिमान्त जातरा, बरमी कंवल, सूरज कंवल, जागर वार्ता में कलबिष्ट, गंगनाथ, विविध में मालूसाही और गारुड़ी में गुरू गोरखनाथ की रखाली को शामिल किया गया है। पुस्तक में हमारी गाथा शीर्षक से श्री जोशी ने लोकगाथाओं पर दस पृष्ठ का एक संग्रहणीय आलेख लिखा है।

  • -13%Limited
    उत्तराखंड महिला भूमिका का इतिहास 349.00
  • English-Garhwali-Hindi Dictionary इंग्लिश-गढ़वाली-हिन्दी डिक्शनरी 300.00

    This Dictionary Contains 8000 English, 40000 Garhwali and 320000 Hindi equivalents. English-Garhwali-Hindi Dictionary is very useful for such readers who study in English and want to know the meaning of English words in Garhwali and Hindi. This is a useful book for readers who wish to learn Garhwali.

    Author : Dr Achlanand Jakhmola
    Lenght : 246 page
    Language : Hindi, English & Garhwali
    Reading age : 15 years and up
    Country of Origin : India
    Best Sellers Rank #85,666 in Books

     

     

  • -14%Limited
    Gangotri Glacier Himalaya: Paradise In Peril 299.00

    This  book is an essential guide for anyone who is seeking trustworthy information on the of Central Himalaya glacier, especially of Gangotri glacier. Featuring the author’s clear and extensive translations of original sources and field experiences, it brings to life the myths and legends of Gangotri in a lucid and engaging style.

    Subject mentioned in the book also limelight’s the threats posed to Gangotri glacier valley through alterations in weather and climate patterns and recent hefty anthropogenic interventions. The voyage of the author from Gangotri temple to the glacier’s snout followed by trekking to Badrinath through the treacherous Kalindi pass is breathtaking.

  • -4%Limited
    GARHWAL KA ITHIAS 249.00

     

    “गढ़वाल का इतिहास” गढ़वाल का पूर्ण इतिहास समेटे इस पुस्तक में गढ़वाल के समाज, साहित्य और संस्कृति का विस्तार से वर्णन है | गढ़वाल की जातियां, वंश, गढ़ और शासक को विशेष रूप से बताया गया है | प्रथम संस्करण से अब तक के लम्बे अन्तराल के दौरान गढ़वाल के इतिहास में जो नई खोजे प्रकाश में आई हैं उनका समावेश भी इस पुस्तक में किया गया है। डॉ० यशवन्त सिंह कठोच ने बड़े परिशम पूर्वक इस पुस्तक का संपादन ही नहीं किया, अपितु उसमें संशोधन कर इस पुस्तक को और आद्यतन बना दिया है। अतः प्रतियोगिता की दृष्टि से यह पुस्तक बहुत लाभ करी है।

  • -32%Limited
    Garhwal Himalaya 239.00
  • Kumaoni Shabd Sampada कुमाउनी शब्द सम्पदा 150.00

    कुमाउनी शब्द सम्पदा, कुमाउनी-हिन्दी और अंग्रेजी के पाठकों के लिए एक महत्वपूर्ण शब्दकोश है। डॉ नागेश कुमार शाह द्वारा संकलित इस शब्दकोश को वर्णमाला के अनुसार तैयार किया गया है। शब्दकोश के अतिरिक्त पुस्तक में विशिष्ट शब्दावलियां भी दी गई हैं। गंध सम्बन्धी शब्दावलियां, मनोभावों संबंधी शब्दावलियां, कुमाउनी लोकोक्तियां व मुहावरे, समानार्थी शब्द व कुमाउनी वाक्य रचना भी पुस्तक में दी गई है। यह पुस्तक कुमाउनी भाषा में रुचि रखने वाले नवपाठकों, छात्रों व शोधार्थियों के लिए बहुंत ही उपयोगी है।

    Author : Dr. Nagesh Kumar Shah
    Language : Garhwali (Uttarakhand Local Language)
    Hardcover : 168 Pages
    Reading age : 15 years and up
    Country of Origin : India
    Best Sellers Rank : #369,868 in Books

  • A Stream of Himalayan Melody Selected songs of Narendra Singh Negi 150.00

    यह पुस्तक गढ़रत्न नरेंद्र सिंह नेगी के चुनिंदा गढ़वाली गीतों का अंग्रेजी अनुवाद है। यह अनुवाद युवा कवि और अनुवादक दीपक बिजल्वाण द्वारा किया गया है। पुस्तक में नेगी जी के खुदेड़ गीत, प्रेम गीत, पर्यावरण और प्रकृति चेतना और अन्य विविध संदर्भ के गीतों को शामिल किया गया है।

    Author : Deepak Bijalwan
    Language : English
    Hardcover : 118 Pages
    Country of Origin : India
    Best Sellers Rank : #29,550 in Books

Close My Cart
Close Wishlist
Close Recently Viewed
Close
Compare Products (0 Products)
Compare Product
Compare Product
Compare Product
Compare Product
Close
Categories